Sponsored

Conclusion of Stock Exchange

Stock Exchange शेयर बाजार का एक महत्वपूर्ण घटक होता है। यह स्टोक्स के ट्रेडर्स, Investors को stocks की खरीद-फरोख्त की सुविधा प्रदान करता है।आसान भाषा में कहें तो एक Stock Exchange कंपनियों और निवेशकों के बीच व्यापार स्थापित करने का जरिया होता है।

सभी देशों में अपने-अपने स्टॉक एक्सचेंज है। भारत में दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज BSE और NSE है।

भारत में स्टॉक एक्सचेंज SEBI द्वारा निर्देशित नियमों और विनियमों का पालन करता है।

Sponsored

आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि What is a Stock Exchange (एक स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है), Stock Exchange के प्रकार कितने होते हैं? Stock Exchange क्या कार्य करता है और इसकी क्या विशेषताएं होती हैं?

What is Stock Exchange (Stock Exchange का meaning क्या हैं)

What is Stock Exchange
What is Stock Exchange
Sponsored

एक Stock Exchange ऐसी जगह होता है जहां Publicly Listed कंपनियों के शेयरों की खरीद-फरोख्त की जाती है।

Stock Exchange, स्टॉक ब्रोकर्स को किसी कंपनी के शेयरों और अन्य तरह के Securities (Bonds, Commodities) के व्यापार करने की सुविधा प्रदान करता है।

किसी कंपनी के शेयर को आप तभी खरीद या बेच सकते हैं जब वह किसी स्टॉक एक्सचेंज में listed हो।

भारत के स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसे बाजार के रूप में कार्य करते हैं, जहां शेयरों, बॉन्ड्स और कमोडिटी जैसे वित्तीय साधनों का व्यापार किया जाता है।

Sponsored

आसान शब्दों में कहें तो, भारत के संदर्भ में एक स्टॉक एक्सचेंज ऐसा मंच है, जहां शेयरों, बॉन्ड्स और कमोडिटी के खरीदार और विक्रेता SEBI द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करते हुए किसी कार्य दिवस के विशिष्ट घंटों के दौरान व्यापार करने के लिए एक साथ आते हैं।

यहां आपको ध्यान रहे कि स्टॉक एक्सचेंज किसी भी कंपनी के शेयरों का मालिकाना हक नहीं रखता है, यह केवल कंपनियों और स्टोक्स के खरीददारों के बीच की एक कड़ी होता है।

Indian Stock Exchanges

भारत में कई Stock Exchanges है, लेकिन इनमें से दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज BSE और NSE हैं।

Sponsored

नीचे हम आपको भारत के स्टॉक एक्सचेंज के बारे में विस्तार से बताएंगे।

  • Bombay Stock Exchange

सन 1875 में मुंबई शहर के Dalal Street (दलाल स्ट्रीट) में Bombay Stock Exchange (BSE) को स्थापित किया गया था।

BSE एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है और यह दुनिया का दसवां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज भी है।

BSE में लगभग 5200 कंपनियां Publicly Listed है।

ताजा आंकड़ों के हिसाब से BSE का अनुमानित Market Cap लगभग 3.5 Trillion USD है।

BSE के प्रदर्शन का सूचकांक SENSEX है।

  • National Stock Exchange

National Stock Exchange (NSE) को सन 1992 में मुंबई में स्थापित किया गया था।

NSE को भारतीय शेयर बाजार में BSE के एकाधिकार को खत्म करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया था।

NSE को भारत में demutualised electronic stock exchange markets की श्रेणी में अग्रणी माना जाता है।

NSE का अनुमानित Market Cap लगभग 3.4 Trillion USD है।

NSE दुनिया का 12th सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

NSE के प्रदर्शन का सूचकांक NIFTY है।

भारत के कुछ अन्य स्टॉक एक्सचेंज निम्न है: 

  • Calcutta Stock Exchange (CSE)
  • India International Exchange (India INX)
  • Metropolitan Stock Exchange (MSE)
  • National Commodity & Derivatives Exchange Ltd. (NCDEX)
  • Multi Commodity Exchange (MCX)

Famous Stock Exchanges in the World (दुनिया का सबसे बडा Stock Exchange कौनसा हैं)

अमेरिका का New York Stock Exchange (NYSE) मार्केट कैप के हिसाब से दुनिया का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है।

विश्व के कुछ प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज निम्न प्रकार हैं: 

ExchangeCountryMarket Cap (in Billion USD as of July,2022)
New York Stock Exchange (NYSE)USA24.68
NasdaqUSA19.5
Shanghai Stock ExchangeChina7.05
Shenzhen Stock ExchangeChina5.15
EuronextEurope5.90
Tokyo Stock ExchangeJapan5.31
Hong Kong ExchangesHong Kong4.57
London Stock ExchangeBritain3.17
Saudi Stock ExchangeSaudi Arabia3.15

Investment Methods

निवेशक निम्न दो तरीके से भारत के स्टॉक एक्सचेंज में निवेश कर सकते हैं:

  • Primary Market

Primary Market, Securities का निर्माण करता है और एक मंच के रूप में कार्य करता है, जहां कंपनियां आम जनता के अधिकरण के लिए अपने नए स्टॉक विकल्प और बांड जारी करती हैं।

Primary Market वह जगह है जहां पूंजी जुटाने के लिए कंपनियां पहली बार अपने शेयर IPO के जरिए शेयर मार्केट में Publicly Listed करती है आम जनता के लिए।

  • Secondary Market

Secondary Market को शेयर मार्केट के रूप में भी जाना जाता है। Secondary Market इन्वेस्टर्स के लिए ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य करता है।

Secondary Market में निवेशक उन कंपनियों को शामिल किए बिना सिक्योरिटीज में ट्रेड करते हैं जिन्होंने Brokers की मदद से उन्हें पहली बार जारी किया गया था।

Functions of Stock Exchange (Stock Exchange के कार्य)

  • पूंजी निर्माण

पूंजी का निर्माण बचत और निवेश के कारण होता है। स्टॉक एक्सचेंज देश में पूंजी निर्माण की सुविधा प्रदान करते हैं| वह स्टॉक मार्केट में निवेश करने वाले निवेशकों में बचत, निवेश और जोखिम वहन करने की आदत विकसित करते हैं।

  • Securities  का मूल्यांकन

स्टॉक एक्सचेंज में सिक्योरिटीज की कीमतें निवेशकों की मांग और आपूर्तिकर्ता कंपनियों की प्राथमिकताओं से निर्धारित होती है। 

स्टॉक एक्सचेंज Securities की Demand और Supply को एकीकृत करते हैं और निरंतर आधार पर उनकी कीमतें  निर्धारित करते हैं।

  • Investment की सुरक्षा

स्टॉक एक्सचेंज सरकार द्वारा और SEBI द्वारा बनाए और लागू किए हुए नियमों के तहत काम करते हैं। स्टॉक एक्सचेंज के सभी सदस्य इन नियमों का पालन करते हैं।

FAQs

Stock Exchange का उद्देश्य क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज का मुख्य उद्देश्य कंपनियों की पूंजी निर्माण में मदद करना तथा विनिमय के लिए एक सामान्य मंच प्रदान करके कंपनियों और निवेशकों के बीच मध्यस्थता स्थापित करना है।

Stock Exchange के कुछ उदाहरण क्या हैं?

BSE
NSE 
Hong Kong Exchanges
Shanghai Stock Exchange

America में 2 प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज कौनसे हैं?

NASDAQ
NYSE

स्टॉक एक्सचेंज क्यों महत्वपूर्ण है?

पूंजी जुटाने के लिए शेयर बाजार कंपनियों को सार्वजनिक रूप से व्यापार करने में मदद करते हैं। यह Stocks की बिक्री और खरीद के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है।

Leave a Comment