Sponsored

Difference Between Stock And Share In Hindi

स्टॉक और शेयर ऐसे शब्द हैं जिन्हें निवेशक लगभग हर समय शेयर बाजार में निवेश करते समय उपयोग में लाते हैं। इन शब्दों का इस्तेमाल शेयर बाजार में कंपनीज के विभिन्न प्रकार के शेयरों को खरीदने के लिए किया जाता है। परंतु कई लोग स्टॉक और शेयर के बीच के अंतर को नहीं जानते हैं।

हालांकि स्टॉक और शेयर में बहुत ही सूक्ष्म अंतर होता है इसलिए आज की इस लेख में हम difference between stock and share in hindi के बारे में जानकारी दे रहे हैं। आइए इनके बीच के अंतर को गहराई से समझते हैं। 

janprahar.com

Sponsored

स्टॉक क्या है? (What is Stock)

स्टॉक एक से अधिक वित्तीय सिक्योरिटीज को संदर्भित करते हैं। जब हम एक या एक से अधिक कंपनियों के कई शेयरों को खरीद लेते हैं तो वह एक साथ मिलकर स्टॉक बन जाता है। 

Sponsored

उदाहरण के लिए, मान लीजिए किसी व्यक्ति ने ABC कंपनी और XYZ कंपनी के कुछ शेयरों को खरीदा तो हम यह कहेंगे कि उस व्यक्ति ने स्टॉक में निवेश किया है। 

जब आप किसी कंपनी के स्टॉक में निवेश करते हैं तो आप उस कंपनी के शेयर धारक बन जाते हैं। और स्टॉक सर्टिफिकेट यह दर्शाता है कि आपने किसी कंपनी के कितने स्टॉक्स में निवेश किया हुआ है। 

एक कंपनी या अन्य कंपनियों के शेयरों को खरीद सकते हैं जिसे आप स्टॉक कहेंगे। आप अपने पोर्टफोलियो में चाहे जितने भी स्टॉक्स रख सकते हैं इसकी कोई सीमा नहीं होती है। 

शेयर किसे कहते हैं? (What is Share?)

शेयर स्टॉक्स के एक छोटी यूनिट को कहा जाता है। जब कोई कंपनी शेयर बाजार में पूंजी इकट्ठा करने के लिए शेयर जारी करती है तो निवेशक इन शेयरों को खरीदते हैं। और उस कंपनी के कुछ हिस्सों के मालिक बन जाते हैं। 

Sponsored

सामान्य शब्दों में हम कह सकते हैं कि स्टॉक का प्रति यूनिट शेयर कहलाता है और स्टॉक के प्रति शेयर कंपनी के स्वामित्व के कुछ हिस्सों के बराबर होते हैं। इसलिए जब भी हम उस कंपनी के शेयरों को देखते हैं तो हमें उस कंपनी के इससे के मुनाफे में से कुछ मुनाफा भी मिलता है।

उदाहरण के लिए, मान लीजिए किसी व्यक्ति ने ABC कंपनी के 100 शेयर खरीदे। अब यदि ABC कंपनी के पास 100000 शेयर हैं तो इसका अर्थ यह हुआ कि वह व्यक्ति ABC कंपनी के 0.1% हिस्से का मालिक है।

शेयर दो प्रकार के होते हैं 

  1. Preference share 

Preference share को शेयर के नाम से भी जाना जाता है। Preference share शेयरधारकों को देय लाभांश विकल्प के साथ दिया जाता है। 

Sponsored

जैसे यदि किसी कंपनी को उसके व्यवसाय में घाटा होता है तो भी उन व्यक्तियों को लाभांश जरूर दिया जाएगा जिन व्यक्तियों ने उस कंपनी के Preference share को खरीदा है। लगभग सभी Preference shares में एक निश्चित लाभांश शेयरधारकों को जरूर दिया जाता है चाहे कंपनी को लाभ हो या नहीं। 

  1. Equity share 

इक्विटी शेयर धारकों को कंपनी के मालिक के रूप में जाना जाता है। हालांकि इक्विटी शेयरधारकों को एक निश्चित लाभांश प्राप्त नहीं होता है। यह शेयर धारक केवल उसी समय लाभ कमा सकते हैं जब कंपनियों को लाभ होता है। 

परंतु इक्विटी शेयर धारक कंपनी के मीटिंग में हिस्सा ले सकते हैं क्योंकि इनके पास कंपनी के शेयर होते हैं और यह कंपनी के उतने हिस्से के मालिक भी होते हैं। कंपनी के द्वारा लेनदारों एवं Preference शेयरधारकों को भुगतान करने के बाद ही इक्विटी शेयर धारकों को लाभांश का भुगतान किया जाता है। 

शेयर एवं स्टॉक के बीच अंतर (difference between stock and share in hindi)

1hindi.com

  1. परिभाषा के आधार पर 

स्टॉक एक या एक से अधिक कंपनियों में शेयरधारकों के स्वामित्व को दर्शाती है। इसके विपरीत शेयर किसी एक कंपनी के स्वामित्व को दर्शाती है। 

उदाहरण के लिए, यदि X ने स्टॉक में निवेश किया है तो इसका अर्थ यह है कि उसने कई कंपनियों के शेयरों में निवेश किया है। इसके विपरीत यदि X ने किसी शेयर में निवेश किया है तो इसका अर्थ यह है कि उसने किस कंपनी में कितने शेयरों में निवेश किया है? 

  1. स्वामित्व के आधार पर 

जब किसी व्यक्ति के पास कई कंपनियों के शेयर होते हैं तो हम उन्हें कह सकते हैं कि वह व्यक्ति स्टॉक का मालिक है। इसके विपरीत यदि किसी व्यक्ति के पास किसी एक कंपनी का शेयर होता है तो हम उसे कह सकते हैं कि वह केवल कुछ शेयरों का मालिक है। 

  1. मूल्यों के आधार पर

यदि किसी व्यक्ति के पास स्टॉक है तो हम कह सकते हैं कि उस व्यक्ति के पास अलग-अलग मूल्य वाले विभिन्न शेयर होंगे।

इसके विपरीत यदि किसी व्यक्ति के पास एक कंपनी का शेयर है तो इसका मतलब यह है कि उस व्यक्ति के पास केवल एक ही मूल्य वाले शेयर हैं। 

  1. नाममात्र मूल्य के आधार पर 

शेयरों के मांग एवं आपूर्ति के आधार पर कंपनी हर शेर को एक मूल्य प्रदान करती है। इसके विपरीत स्टॉक में इस तरह का कोई नाम मात्र मूल्य नहीं होता है। 

  1. मूल अंक की संभावना के आधार पर 

शेयरों में मूल अंक की संभावना शून्य होती है।

स्टॉक में मूल अंक की संभावना अधिक होती है। 

  1. चुकता मूल्य के आधार पर

किसी कंपनी के शेयरों का भुगतान या तो पूरी तरह से होता है या आंशिक रूप से किया जाता है।

इसके विपरीत किसी कंपनी के स्टॉक का भुगतान हमेशा पूरी तरह से ही होता है।

निष्कर्ष (Conclusion)

आज के इस लेख में हमने आपको difference between stock and share in hindi के बारे में जानकारी दी। उम्मीद है कि इस लेख के माध्यम से आप शेयर एवं स्टॉक के बीच के अंतर को समझ पाए होंगे। 

यदि आपको आज का यह लेख जानकारीपूर्ण लगा हो तो इसे अपने अन्य दोस्तों के साथ भी शेयर करें। इसके अलावा अगर आपको इस लेख से संबंधित कोई सवाल पूछना हो तो आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट कर के पूछ सकते हैं। 

FAQ

स्टॉक कितने प्रकार के होते हैं?

स्टॉक्स दो प्रकार के होते हैं कॉमन स्टॉक और प्रीपेड स्टॉक। 

स्टॉक में कितने शेर होते हैं?

स्टॉक्स में कई कंपनियों के शेयर शामिल होते हैं। यह आप पर निर्भर करता है कि आपने हर कंपनी के कितने शेयर खरीदे हैं। 

अंश और स्टॉक में क्या अंतर है?

इस लेख में अंश और स्टॉक में अंतर को विस्तार पूर्वक बताया गया है।

Leave a Comment