Sponsored

First Computerised Stock Exchange in India

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि stock की listing stock exchange पर होती है। Exchange ही stock market का आधार है। सबसे पहले भारत में BSE 30 stock exchange अस्तित्व में आया, परंतु इसके सभी कार्य offline होते थे,  जिस के कारण काफी scandals देखे गए। इसके बाद NSE stock exchange अस्तित्व में आया जिसके बाद शेयर मार्केट में काफी सारे अच्छे बदलाव देखने को मिले। 

आइए विस्तार से जाने की First computerised stock exchange in India क्या है? और इसने कैसे शेयर मार्केट को आसान बनाया है। 

भारत की पहली कंप्यूटराइज्ड स्टॉक एक्सचेंज कौन सी है? (First computerised stock exchange in India

Nse भारत की एक leading stock exchange है। यह मुंबई में स्थित है। यह contracts traded के basis पर विश्व भर की सबसे बड़ी derivatives exchange है। 2021 के कैलेंडर के अनुसार यह दुनिया भर में cash equity trading के मामले में चौथे नंबर पर रही। 

Nse की स्थापना 1992 में हुई थी और यह भारत की सबसे पहली इलेक्ट्रॉनिक एक्सचेंज है। Nse भारत की वह पहली एक्सचेंज बनी, जिसने देश को modern और fully automated screen based electronic trading system  दिया, जिससे कि ट्रेडिंग करना काफी आसान हो गया। 

Sponsored

निवेशकों के द्वारा nse की index nifty 50 का उपयोग भारतीय पूंजी बाजारों के बैरोमीटर के रूप में भारत और विदेश में बड़े पैमाने पर किया जाता है। 

Technology

Nse की trading system अत्याधुनिक एप्लीकेशन है। इसका uptime रिकॉर्ड 99.99% है और millisecond प्रतिक्रिया समय के साथ हर दिन 450 मिलियन से अधिक massages को process करता है। 

Nse ने पिछले 20 वर्षों में प्रौद्योगिकी में भारी प्रगति की है। 1994 में, जब nse पर व्यापार शुरू हुआ था तब nse प्रौद्योगिकी प्रति सेकेंड दो आर्डर संभाल रही थी। 2001 में यह बढ़कर 60 order प्रति सेकंड हो गया। 

आज nse प्रति सेकंड 1,60,000 आर्डर संभाल सकता है। मांग पर short notice पर विस्तार करने की क्षमता के साथ, nse ने लगातार यह सुनिश्चित करने के लिए काम किया है कि settlement cycle  नीचे आए। Settlements  को हमेशा सुचारू रूप से संभाला गया है। Settlement cycle  को T + 3 से घटाकर T + 2/ T+1 कर दिया गया है। 

Sponsored

NSE की basic जानकारी

यह एक stock exchange है। इसकी स्थापना 31 साल पहले 1992 में हुई थी। आशीष कुमार चौहान इसके MD और CEO है और गिरीश चंद्र चतुर्वेदी इसके chairperson है। इस पर 2002 कंपनियां listing हुई हैं। इसका मार्केट cap 3.4 ट्रिलियन us dollar है। इसके indices Nifty 50, nifty next 50 और nifty 500 है। इसकी वेबसाइट www.nseindia.com है। 

अगस्त 2021 में यह दुनिया भर में सबसे बड़े स्टॉक एक्सचेंज की लिस्ट मे 9 वें नंबर पर थी।

2016 में वैद्यनाथन ने यह अनुमान लगाया था कि भारत का 4% GDP, स्टॉक एक्सचेंज से आता है। 1992 में corporate scandals के कारण स्टॉक एक्सचेंज पर बहुत प्रभाव पड़ा। बहुत सारे इंडियन कॉरपोरेट ग्रुप पर स्टॉक manipulation करने  के लिए जुर्माना लगाया गया। 

Sponsored

2018 में economic times ने बताया कि 6 करोड retail investors ने अपनी सेविंग को स्टॉक मार्केट में invest किया है। चाहे फिर वह म्यूचल फंड के रूप में हो इक्विटी के रूप में हो। एक रिपोर्ट के आधार पर भारत के केवल 1.3% जनता ही स्टॉक मार्केट में निवेश करती है जबकि united States में 27% और china में 10% लोग स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करते हैं। 

NSE market  किन segment मे निवेश करने का offer देती है?

Equity

  • Equity
  • Indices
  • Exchange traded funds
  • Mutual fund
  • Security landing and borrowing
  • Initial public offering

Debt

  • Corporate bonds

Derivatives

  • Equity derivatives
  • Commodity derivatives
  • Interest rate future
  • Currency derivatives

Equity derivatives

Nse ने 12 जून 2000 को index future के लॉन्च के साथ derivatives मे trading शुरू की। Nse के future and option सेगमेंट ने globally पहचान बनाई है। Future and option सेगमेंट में nifty 50 index , nifty IT index, nifty bank index, nifty next 50  और सिंगल स्टॉक फ्यूचर में ट्रेडिंग उपलब्ध है। 

Nifty 50 पर mini nifty f&O और long term options मे भी trading उपलब्ध है। वित्तीय वर्ष 2013 से मार्च 2014 के दौरान एक्सचेंज के F&O सेगमेंट में औसत दैनिक कारोबार 1.52 ट्रिलियन रहा।

NSE ने दुनिया के सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले इक्विटी इंटेक्स S&P 500  और dow johns इंडस्ट्रियल एवरेज पर डेरिवेटिव contract लॉन्च किया। Nse वैश्विक सूचकांक लॉन्च करने वाला पहला भारतीय एक्सचेंज है। यह भी दुनिया में पहली बार है कि S&P 500 इंडेक्स पर contract अनुबंध पेश किए गए और अपने गृह देश, USA के बाहर एक exchange पर सूचीबद्ध किए गए।

अगस्त 2008 में nse द्वारा usd INR मे करेंसी future के लॉन्च के साथ भारत में करेंसी derivatives पेश किए गए थे। 

Interest rate future

साल 2013 में भारत में एक्सचेंज को बाजार नियामक sebi से एकल GOI bond और basket of GOI bonds पर interest rate future लॉन्च करने के लिए अप्रूवल प्राप्त हुआ, जो नगद settle किया जाएगा और यह पहला स्टॉक एक्सचेंज था जिसे यह approval प्राप्त हुआ था। 

Debt market

2013 में nse ने कर्ज से संबंधित उत्पादों के लिए एक liquid और transparent ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म प्रदान करने के लिए भारत का पहला समर्पित debt platform लांच किया। यह retail investors को corporate bonds मे निवेश के अवसर प्रदान करता है। यह उन संस्थानों की भी मदद करता है जो corporate bond धारक है। यह corporates को bonds जारी करते समय पर्याप्त मांग प्राप्त करने मे मदद करता है।

NSE बाजार का समय

इक्विटी का लेनदेन Saturday और Sunday को छोड़कर हफ्ते के 5 दिन होता है। इसके अलावा exchange पर सार्वजनिक अवकाश के दिन भी लेनदेन नहीं किया जाता। Equity लेनदेन के लिए बाजार का समय इस प्रकार से है:--Market pre -opening

  • सुबह 9:00 बजे बाजार लेनदेन की जानकारी डालने और बदलाव करने के लिए खुलता है। 
  • सुबह 9:08 pre open market close हो जाता है।

नियमित बाजार का समय

  • सुबह 9:15 को बाजार नियमित लेनदेन के लिए खुल जाता है। 
  • दोपहर 3:30 पर लेनदेन की प्रक्रिया समाप्त हो जाती है। 
  • शाम 4:00 बजे से लेकर अगले दिन की सुबह 9:00 बजे तक का समय बाजार के बाद का समय माना गया है। 

निष्कर्ष

दोस्तों, आज हम इस लेख के जरिए आपको first computerised stock exchange in India के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी देने की कोशिश की है। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए helpful साबित होगी। यदि आप शेयर मार्केट से जुड़े किसी अन्य विषय पर जानकारी चाहते हैं तो हमें कमेंट करके अवश्य बताएं। 

यदि इस लेख से जुड़ा हुआ कोई भी प्रश्न आप हम से पूछना चाहते हैं या आप हमें इस लेख से संबंधित कोई सुझाव देना चाहते हैं, तो उसके लिए भी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। 

FAQ

Q. 1 NSE पर वर्तमान समय में 1 सेकंड में कितने ऑर्डर हैंडल किए जाते हैं? 

Ans. 1,60,000

Q. 2 Nse market खुलने का समय क्या है? 

Ans. 9:15 से लेकर 3:30 तक

Q. 3 share market मे pre opening क्या होती है? 

Ans. इसमें बाजार सुबह 9:00 से लेकर 9:08 तक खुलता है। 

Q. 4 India का पहला computerised stock exchange कौन सा है? 

Ans. NSE

Q. 5 NSE computerised कब हुआ था? 

Ans. सन 1992 में

Leave a Comment